Bhagavad Gita Essay Writing Competition


Essay Writing Competition
Closing of registration Last date & time 21-Sep-2022 Wednesday 11:59 PM IST
Submission Type Document file in pdf format
Submission link Available from 12-Sep-2022
Last date of submission 18-Nov-2022 11:59 PM IST
Final round 25-Nov-2022 Timings will be notified
Declaration of results
4-Dec-2022, Sunday 5:00 PM IST

Essay Writing

Selected participants will be communicated by message/call.

Essay Writing topics:

6-10 years (6 years and below 10 years) 10-14 years (10 years and below 14 years) 14-18 years (14 years and below 18 years) 18+ years

1. Krishna – The Best Friend

2. Who Am I

3. Selfless Service

4. Krishna is The Supreme Lord

5. Yoga For Body, Mind And Soul?

1. Our Spiritual Nature (including the qualities of spirit soul)

2. Krishna -The Supreme Personality of Godhead

3. Srila Prabhupada – The Savior

4. Why should we eat prasadam?

5. Mind – Friend Or Foe

1. Transmigration of soul

2. Remaining composed in duality of life

3. Bhagavad Gita – The timeless science

4. Krishna -concept of infinity

5. Love of Krishna – Life’s sole goal

6. Discipline in mode of goodness is the hallmark of a student life

7. Gratitude for Guru and Krishna

8. Mind -Enemy or Friend

9. Compassion – The Essential Element of Love

10. Humility and Equality Towards Every Living Being

1. Developing The Higher Taste

2. Attitude of Gratitude In Spiritual Life

3. Forgiveness Vs Justice

4. Developing The Sense of Equanimity

5. Importance of Celibacy

6. The misery of repeated birth and death

7. The most confidential knowledge of Bhagavad Gita

8. The Mystic Opulence of Krishna

9. Krishna looks human but is transcendental

10. Maya and Krishna -Two Sides of The Same Coin

11. Reincarnation According To Bhagavad Gita

12. Exclusive devotion towards Krishna

13. Krishna The Source Of Everything

14. The Yajna For The Modern Age

15. The Supreme Welfare Work

16. The Formula For Universal Peace

17. Spiritual Practice is The Foundation of Our Happiness

18. Developing a Sense of Equanimity

19. Inaction in action and action in inaction in Spiritual Life

20. Varnashrama – A Scientific Social Order

21. Seeing Beyond Obvious

22. Leading By Example

23. Spiritualizing Any Service Brings a Sense of Contentedness

24. Qualities of Godly men

25. The objective of Spiritual Life

26. The impermanence of material world

27. Attaining perfection by performing prescribed duties

28. Steadying the mind through deliberate Spiritual Intelligence

29. Self realization through control of the mind and senses

30. Compassion Towards Every Living Being

31. Humility in Greatness

32. To Love Means To Serve

33. Transcendence and self control

34. How to subdue fear?

35. A regulated life for Krsna consciousness

36. How to make our senses transcendental?

37. The flickering mind

38. Why is the Supreme Lord called Purushottam?

39. Engaging in Krsna’s service with determination

40. The transcendental activities of Krisna

41. The inconceivable Lord

FAQ

What are the Instructions?

Instructions :

1. The participant can write on anyone from the above-given topics.

2. Only one entry per person will be accepted.

3. The essay size should not exceed.

1. 6-10 Years: ≤ 200 words.

2. 10-14 years: ≤ 250 words.

3. 14-18 years: ≤ 350 words.

4. Adults ( Above 18+ ): ≤ 500 words.

4. All award-winning essays will be published in BGIS Magazine.

What should be the content?

Instructions :

1. The content written in the blog should be your own. If plagiarism is found, then the entry would be disqualified.

2. Give it a snappy, interesting title.

3. You can take reference from current scenarios.

4. You may add subheadings or bullet points.

5. You may use images(max. 2) phrases, quotes, and verses in your blogs, but do not forget to cite them.

6. Kindly mention your Full Name, Age, Mobile number at the beginning of the file you are submitting.


Hindi

6-10 वर्ष ( 6 वर्ष के ऊपर तथा 10 वर्ष नीचे) 10-14 वर्ष (10 वर्ष के ऊपर तथा 14 वर्ष नीचे) 14-18 वर्ष (14 वर्ष के ऊपर तथा 18 वर्ष नीचे) वयस्कों (18+ years)

1. कृष्णा – सर्वश्रेष्ठ मित्र

2. मैं कौन हूं

3. निःस्वार्थ सेवा

4. कृष्ण सर्वोच्च भगवान हैं

5. शरीर, मन और आत्मा के लिए योग?

1. हमारी आध्यात्मिक प्रकृति (आत्मा के गुणों सहित)

2. कृष्ण परम पुरुषोत्तम भगवान्यक्तित्व

3. श्रील प्रभुपाद - उद्धारकर्ता

4. हमें प्रसादम क्यों खाना चाहिए?

5. मन - मित्र या शत्रु ?

1. आत्मा का स्थानांतरण

2. जीवन के द्वैत में रचा रहना

3. ्रीमद्भगवद्गीता - कालातीत विज्ञान

4. कृष्ण-अनंत की अवधारणा

5. कृष्ण का प्रेम - जीवन का एकमात्र लक्ष्य

6. सतोगुण मे अनुशासन छात्र जीवन की विशेषता

7. गुरु और कृष्ण के लिए कृतज्ञता

8. मन - शत्रु या मित्र

9. करुणा - प्रेम का आवश्यक तत्व

10. प्रत्येक व्यक्ति के प्रति समभाव और न्रमता

1. उच्च स्वाद वि कसि त करना

2. आध्यात्मि क जीवन में कृतज्ञता की मनोवृत्ति

3. क्षमा बनाम न्याय

4. समभाव की भावना का वि कास करना

5. ब्रह्मचर्य का महत्व

6. बार-बार जन्म-मरण का दुख

7. भगवद्गीता का परम गुह्य ज्ञान

8. श्री भगवान का योग ऐश्वर्य

9. कृष्ण मनुष्य की भांति दिखाई देते है, परन्तु वह है दिव्य

10. माया और कृष्ण - एक ही सि क्के के दो पहलू

11. श्रीमद्भगवद्गीता के अनुसार पुनर्जन्म

12. कृष्ण के प्रति अनन्य भक्ति

13. कृष्ण, समस्त कारणों के कारणरोत

14. आधुनिक युग के लिए यज्ञ

15. सर्वोच्च कल्याण कार्य,

16. सार्वभौमिक शांति का सूत्र

17. आध्यात्मिक अभ्यास हमारी खुशी का आधार है

18. समभाव की भावना का विकास करना

19. आध्यात्मिक जीवन में कर्म में अकर्म और अकर्म में कर्म

20. वर्णाश्रम - एक वैज्ञानिक सामाजिक व्यवस्था

21. स्पष्ट से परे देखना

22. उदाहरण द्वारा अग्रणी

23. किसी भी सेवा को आध्यात्मिक बनाने से संतुष्टि की भावना आती है

24. ईश्वरीय पुरुषों के गुण

25. आध्यात्मिक जीवन का उद्देश्य

26. भौतिक संसार की अनित्यता

27. निर्धारित कर्तव्यों का पालन करके पूर्णता प्राप्त करना

28. मन को सुविचारित अध्यात्मिक बुध्दि द्वारा स्थिर करना

29. मन और इंद्रियों के नियंत्रण के माध्यम से आत्म-साक्षात्कार

30. प्रत्येक जीवित प्राणी के प्रति करुणा

31. महानता में नम्रता

32. प्रेम करने का अर्थ है सेवा करना

33. आध्यात्म और आत्म नियंत्रण

34. भय पर कैसे विजय प्राप्त करें ?

35. कृष्ण भावनामृत के लिए एक विनियमित जीवन

36. अपनी इंद्रियों को दिव्य कैसे बनाया जाए?

37. चंचल मन

38. सर्वोच्च भगवान को पुरुषोत्तम क्यों कहा जाता है?

39. दृढ़ संकल्प के साथ कृष्ण की सेवा में लगे रहना

40. कृष्ण की दिव्य गतिविधियाँ

41. अकल्पनीय भगवान

सामान्य प्रश्न

निर्देश क्या हैं?

निर्देश :

1. प्रतिभागी ऊपर दिए गए विषयों में से किसी पर भी लिख सकता है.

2. केवल एक व्यक्ति से एक ही प्रविष्टि को स्वीकार किया जाएगा.

3. निबंध का आकार अधिक नहीं होना चाहिए.

1. 6-10 वर्ष: 200 शब्द.

2. 10-14 वर्ष: 250 शब्द

3. 14-18 वर्ष: 350 शब्द.

4. वयस्क (18+ से ऊपर): 500 शब्द.

4. सभी पुरस्कार विजेता निबंध बीजीआईएस पत्रिका में प्रकाशित किए जाएंगे.

सामग्री क्या होनी चाहिए?

निर्देश :

1. ब्लॉग में लिखा कंटेंट आपका अपना होना चाहिए। यदि साहित्यिक चोरी पाई जाती है, तो प्रविष्टि को अयोग्य घोषित कर दिया जाएगा.

2. इसे एक तेज़, दिलचस्प शीर्षक दें.

3. आप वर्तमान परिदृश्यों से संदर्भ ले सकते हैं.

4. आप उपशीर्षक या बुलेट पॉइंट जोड़ सकते हैं.

5. आप अपने ब्लॉग में छवियों (अधिकतम 2) वाक्यांशों, उद्धरणों और छंदों का उपयोग कर सकते हैं, लेकिन उन्हें उद्धृत करना न भूलें.

6. आप जिस फाइल को सबमिट कर रहे हैं, उसकी शुरुआत में कृपया अपना पूरा नाम, उम्र, मोबाइल नंबर का उल्लेख करें.